एक हारा हुआ व्यापारी का कहानी- Motivational Story in Hindi

नमस्कार दोस्तों, आज हम आपके लिए एक बहुत ही अच्छी Motivational Story लेकर अये है. इस कहानी से आप बहुत Inspire होंगे क्युकि यह एक Inspirational Story है. तो चलिए ज्यादा ना लेते हुए हम पढ़ते है Motivational Story in Hindi.

दोस्तों कहानि शुरू करने से पहले एक Request करना चाहूँगा की आप हमारे Website को अपने Bookmark में Save कर ले और रोज हमारे Website को visit करते रहे आपको कुछ नया सिखने के लिए मिलेगा. और आप हमें email में भी subscribe कर सकते है ताकि हमारी हर एक Update आप email में पा सके.

Motivational Story in Hindi

Motivational Story in Hindi – हारा हुआ व्यापारी का कहानी

यह कहानी एक व्यापारी का है जो अपने जीवन में बहुत कामयाब था. एक दिन उस व्यापारी का पूरा कारोबार डूब जता है और वो पूरी तरह टूट जाता है. व्यापारी अपने जीवन से पूरी तरह थक चूका था और अपने जीवन से इतना परेशन हो गया था की वो आत्महत्या करना चाहता था.

एक दिन व्यापारी जंगल से गुजर रहा था और थक जाने के कारण काफी देर तक जंगल में अकेला बैठा रहा. फिर व्यापारी भगवान् को याद करके कहने लगा – में हार चूका हु भगवान् , परेशान ना होने का मुझे एक कारण बताइए. मेरा सब कुछ ख़त्म हो चूका है. अब आप ही बताइए भगवान् आत्महत्या के सिवाए मेरे पास और कोनसा रास्ता बचा है ?

भगवान् के व्यापारी को जबाब दिया- Motivational Speech in Hindi

तुम जंगल में यह घास और बांस के पेड़ को देखो मेने इन्हें एकसाथ लगाया था. मेने इन दोनों को ही बहुत अच्छे से देखभाल की. इनको खाद, पानी और रौशनी सबकुछ बराबर दिया.

घास बहुत जल्दी बड़ी हो गयी और इसने पुरे धरती को हरियाली से भर दिया. और दूसरी तरफ बांस का बिज बड़ा नही हुआ. लेकिन मेने बांस के लिए हिम्मत नही हारी और उसे समय पर खाद, पानी, रौशनी सब कुछ देता रहा.

दूसरी साल, देखते ही देखते घास और घने हो गए और उस पर झाड़ियाँ आने लगे लेकिन बांस के बिज में कोई बदलाव नही और कोई बृद्धि नही हुई. पर मेने फिर भी बांस के बिज के लिए पीछे नही हटा.

तीसरी साल भी बांस के बिज में कोई बृद्धि नही हुई, लेकिन मेने हार नही माना और उसे जरूरतमंद खाद पानी समय पर देता रहा.

चौथे साल भी बांस के बिज में कोई बृद्धि नही नही लेकिन भी फिर भी हर साल की तरह इस साल भी लगा रहा. (Motivational Story in Hindi)

पांचवें साल, बांस के बिज से एक छोटा सा पौधा अंकुरित हुआ. घास की तुलना में यह बहुत ही कमजोर और छोटा था. लेकिन 6 महीने बाद यह पौधा देखते ही देखते 100 फ़िट तक लम्बा हो गया.

मेने इस बांस की जड़ को बनाने में 5 साल का समय लगाया. इन पांच सालो में इसका जड़ इतना मजबूत हो चूका है की 100 फ़िट उचे बांस को भी संभाल सकता है.

अगर जीवन में कभी भी आपको कठिनाईयों का सामना करना पड़े तो समझो आपकी जड़ मजबूत हो रही है. दुबारा जब तुम खड़े होने की कोशिश करोगे तब तुम्हे कोई गिरा नही सकता चाहे कितना भी बड़ा मुसीबत आजाये.

मैंने बांस पर हार नही मानी और में तुम पर भी हार नही मानूंगा. अपनी तुलना किसी और से मत करो सबका उद्देश्य अलग है. जैसे की घास और बांस दोनों का उद्देश्य अलग है और दोनों दोनों के बड़े होने का समय भी अलग है.

तुम्हारा भी समय आयेगा. एक दिन तुम भी बांस के पेड़ की तरह आसमान छुओगे. मेने हिम्मत नही हारी, तुम भी मत हारो सिर्फ अपने आप पर बिश्वास रखो. मेरे मित्र बिश्वास से बड़ा कोई ताक़त नही और बिश्वास से बड़ा कोई शक्ति नही.

दोस्तों जिन्दगी में कठिनाईयों से मत घबराओं. मान लो सब कुछ आसान है. ठान लो सफल होना है तो होना है चाहे कुछ भी हो जाये. असफल होने पर निराश ना होए, दुबारा कोशिश करे और लगे रहे . सफलता आपको जरुर मिलेगी. येही इस Motivational Story in Hindi का सार है.

(Visited 1,959 times, 4 visits today)

Comments

  1. Reply

  2. By Amit kumar

    Reply

  3. By chhotu munna

    Reply

  4. By chhotu munna

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *